Skip to content

कमोडिटी बाजारों का विस्तार मुद्रास्फीति को बढ़ा रहा है

कमोडिटी बाजारों का विस्तार मुद्रास्फीति को बढ़ा रहा है - आधिकारिक Olymp Trade ब्लॉग

वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं में व्यवधान और कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के साथ, वैश्विक अर्थव्यवस्था मुद्रास्फीति के दबाव का सामना कर रही है। आइए, इन कारकों के संभावित नतीजे और संबंध की जांच करते हैं।

विषय-वस्तु:

अतिरिक्त विवरण और स्पष्टीकरण प्राप्त करने के लिए डैश युक्त नीला शब्द और चित्रों के ऊपर स्थित हरे बिंदु के साथ अंतर्क्रिया करें।

 

कमोडिटी बाज़ार में क्या हो रहा है?

अपेक्षाकृत निरंतर वृद्धि की अवधि के बाद, कमोडिटी बाजार में फिलहाल उतार-चढ़ाव जारी है।

  • फरवरी में सोना 1,800 डॉलर प्रति ट्रॉय आउंस से बढ़कर मार्च में 2,000 डॉलर से अधिक हो गया। यह 11% से अधिक की वृद्धि थी। बाद में, अप्रैल में इसने 1,950 डॉलर के आसपास कारोबार किया। मई तक, अधिकतर वृद्धि गवांते हुए, $1,800 के क्षेत्र में वापस गिर गया था।
  • फरवरी-मार्च के अपट्रेंड में चांदी लगभग 20% बढ़कर 22.5 डॉलर से बढ़कर 27.5 डॉलर प्रति आउंस हो गई। उसके बाद, इसने गति खो दी और अप्रैल के अधिकांश समय $25 पर कारोबार किया। महीने के अंत में, इसमें एक डाउनट्रेंड शुरू हुआ जो मई तक जारी रहा और इसे $20 के दो-साल के सपोर्ट क्षेत्र में नीचे खींच लाया।
  • Brent में 50% से अधिक की वृद्धि हुई और अब $100 प्रति बैरल से ऊपर कारोबार कर रहा है। इसके अतिरिक्त, प्राकृतिक गैस पर फ्यूचर्स में 32.5% की वृद्धि हुई है।

सोने/चांदी का अनुपात अब लगभग 70:1 पर बना हुआ है। जैसा ही इसमें उतार-चढ़ाव होता है, आप इसे कई ट्रेडिंग अवसरों के लिए उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि सोना बढ़ता है, तो अनुपात भी बढ़ेगा। इस मामले में, आप Olymp Trade प्लेटफार्म के Forex ट्रेडिंग मोड में सोने पर डाउन ट्रेड और चांदी पर अप ट्रेड खोल सकते हैं।

Bloomberg कमोडिटी इंडेक्स में वर्ष की शुरुआत से लगभग 30% की वृद्धि हुई है, हालांकि वृद्धि की गतिशीलता महीनों के दौरान असमान रही थी। जनवरी में एक अपट्रेंड शुरू करने और फरवरी में इसे तेज करने के बाद, मार्च से इंडेक्स 130 के स्तर के आसपास उतार-चढ़ाव का सामना कर रहा है। कुछ अर्थशास्त्रियों ने टिप्पणी की है कि 23 सूचकांक घटकों में से 20 में backwardation है।

इसलिए, कमोडिटी की कीमतों में उछाल आया जो बाद में कई क्षेत्रों में कुछ स्तरों के अंतर्गत बढ़ी हुई अस्थिरता में बदल गया।

कमोडिटी की कीमतें क्यों बढ़ रही हैं?

रूस-यूक्रेन संघर्ष से उत्पन्न बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव, कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के लिए एक प्रमुख योगदान कारक है। यह अवस्था पहले से ही तनावपूर्ण वैश्विक ढुवानी समस्या और कई देशों द्वारा नागरिकों को Covid लॉकडाउन की राहत के रूप में प्रत्यक्ष नकद भुगतान के कारण जनित अनियंत्रित मुद्रास्फीति अतिरिक्त दबाव डाल रही है।

अमेरिका के बाद, रूस दूसरा सबसे बड़ा तेल उत्पादक है, जिसका दैनिक तेल उत्पादन 10.5 मिलियन बैरल का है। इसका गैस का दैनिक उत्पादन 693 अरब घन मीटर (bcm) है, जो दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा भी है। इसलिए, रूस एक प्रमुख ऊर्जा उत्पादक है। इसके साथ-साथ, इसमें प्रतिबन्ध लागू है। स्वाभाविक रूप से, वैश्विक निवेशक इन परिस्थितियों में कमोडिटी बाजार की स्थिरता पर सवाल उठा रहे हैं और ईंधन की कीमतों के बारे में चिंता व्यक्त कर रहे हैं।

प्राकृतिक गैस का वैश्विक उत्पादन चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 08.04.2022
चित्र 1. प्राकृतिक गैस का वैश्विक उत्पादन

यही जटिलता का मूल कारण है। फिलहाल, यूरोपीय देश रूसी गैस की काफी बड़ी मात्रा खपत करते हैं। उदाहरण के लिए, जर्मनी का 49% और फ्रांस की 24% गैस की आपूर्ति रूस से आती है। इसलिए, यदि यूरोपीय देशों के हित की बात करें, तो वैकल्पिक गैस प्रदाता ढूँढना उनके लिए आसान नहीं होगा और इसमें समय भी लगेगा। इस बीच, अपने स्वयं के हितों की रक्षा करने की कोशिश में, रूस ने रूसी राष्ट्रीय मुद्रा में ऊर्जा आपूर्ति के सभी भुगतान करने का अनुरोध किया, जबकि यह हमेशा से अमरीकी डॉलर में किया जाता है। नि: संदेह, यह भू-राजनीतिक तनाव को बढ़ाने की दिशा में एक कदम है, और कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के लिए अतिरिक्त कारक है।

कमोडिटी की बढ़ती कीमत से किसे फायदा होगा?

संसाधन अर्थव्यवस्था ऊर्जा की बढ़ती कीमतों से लाभ उठा सकते हैं क्योंकि वे इसमें बड़ा मुनाफा कमाते हैं। OPEC के सदस्य ऐसे कुछ देश हैं।

दूसरी ओर, चीन, भारत और अन्य शुद्ध आयातक देशों ने रूस के खिलाफ प्रतिबंधों में शामिल होने से इनकार कर दिया है। नतीजतन, वे अब भारी छूट पर रूसी तेल खरीद सकते हैं। पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट के अनुसार मार्च में, भारत ने अपने पिछले साल के आयात का लगभग आधा हिस्सा रूस से खरीदा, और रूस से भारत को कुल तेल निर्यात में चार गुना की वृद्धि हुई है। इसके साथ ही भारत की योजना रूसी कोयले के आयात को भी बढ़ाने की है।

अंत में, ऊर्जा कीमत में वृद्धि यूरोपीय संघ और संयुक्त राज्य में तेल उत्पादकों को भी लाभान्वित कर सकती है। उदाहरण के लिए, Chevron और Exxon Mobil के शेयर की कीमतों ने पिछले समय में मजबूत ऊपर की ओर रुझान दिखाया है।

Exxon Mobil स्टॉक मूल्य चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 11.04.2022
चित्र 2. Exxon Mobil के शेयर की कीमत में तेजी

ऊर्जा की कीमतों में वृद्धि मुद्रास्फीति का कारण बन रही है

चूंकि, तेल और प्राकृतिक गैस हर अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग किए जाने वाले बुनियादी तत्व हैं, इसलिए उनकी बढ़ती कीमतों के कई परिणाम सामने आए हैं। सबसे तात्कालिक प्रभावों में, आपूर्ति श्रृंखलाएं अधिक महंगी हो गई हैं। बदले में, इसने उपभोक्ता कीमतों में वृद्धि किया है और जमीन और हवाई यातायात को भी अधिक महंगा बना दिया है । यह मुद्रास्फीति की प्रक्रिया का केवल एक छोर है।

दूसरी छोर पर, रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों और यूक्रेन में संघर्ष के कारण आपूर्ति श्रृंखलाओं में व्यवधान हो रहा है। कुल मिलाकर, इन देशों का वैश्विक अनाज व्यापार में लगभग 25% की हिस्सेदारी है। चूंकि दोनों देशों की आपूर्ति अब खतरे में है, इसके परिणामस्वरूप खाद्य कीमतों में वृद्धि हो सकती है। इसलिए, यह कमोडिटी बाजार मुद्रास्फीति में योगदान दे रहा है।

नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, साल-दर-साल मुद्रास्फीति की दर अमेरिका में 7.9% और यूरोपीय संघ में 5.9% है।

EU मुद्रास्फीति दर चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 11.04.2022
चित्र 3. EU मुद्रास्फीति दर

मुद्रास्फीति से मुकाबला करने के लिए ब्याज दर की समस्या

अमेरिकी फेड ने लिक्विडिटी को स्थिर रखने और मुद्रास्फीति से मुकाबला हेतु प्रमुख ब्याज दर में वृद्धि की। इस तरह के कदम से अक्सर सरकारी बॉन्ड पर भुगतान की आकार में वृद्धि होती है जब बॉन्ड यील्ड बढ़ रही होती है। बदले में, इन भुगतानों की पूर्ती हेतु अधिक धन की आवश्यकता होती है। इस पैसे को प्राप्त करने का सबसे आसान तरीका है कि इसे प्रिंट करके इसकी आपूर्ति को बढ़ाया जाए। बहरहाल, इससे मुद्रास्फीति बढ़ती है, मुद्रास्फीति-विरोधी उपाय के रूप में ब्याज दरों में वृद्धि को प्रभावी ढंग से प्रभावहीन बना देता है।

क्या तेल की कीमत घटेगी और कब?

ऊर्जा की कीमतों और अन्य कमोडिटी का भविष्य काफी हद तक इस बात पर निर्भर है कि यूक्रेन के आसपास संघर्ष कैसे विकसित होता है, रूस विरोधी प्रतिबंध और यह सब कितने समय तक चलेगा। जब यह सब ख़त्म होगा, तो भू-राजनीतिक खतरों में कमी होना शुरू होंगे और कमोडिटी की कीमतों में गिरावट होंगी। हाल-फिलहाल, इसकी संभावना नहीं के बराबर है। इसलिए, हमारा मानना ​​​​है कि तेल और गैस बाजार में किसी भी गिरावट में ऊपर की ओर कारोबार करना चाहिए।

Olymp Trade पर कमोडिटी में ट्रेड करें

जोखिम चेतावनी: लेख की सामग्री में निवेश की सलाह निहित नहीं है और आप अपनी ट्रेडिंग गतिविधि और/या ट्रेडिंग के परिणामों के लिए पूरी तरह से स्वयं जिम्मेदार हैं।