Forex

स्विंग ट्रेडिंग: पेशेवरों के लिए एक ट्रेडिंग शैली

स्विंग ट्रेडिंग क्या है?


ट्रेडर का वर्गीकरण अधूरा लग सकता है। हालांकि, एक खुली पोजीशन रखने की अवधि के आधार पर उनके बीच एक स्पष्ट विभाजन होता है। यदि आपकी रणनीति में दो दिनों से लेकर कई हफ्तों की अवधि तक ट्रेडों को रखना शामिल है, तो आप खुद को एक स्विंग ट्रेडर कह सकते हैं।

एक नियम के तौर पर, ट्रेडर कुछ अनुभव हासिल करने के बाद स्विंग ट्रेड करना शुरू करते हैं। उनमें से कई के लिए, लंबी अवधि के लिए ट्रेडों को बरकरार रखना, Olymp Trade पर ट्रेडिंग करते समय अपने कार्य असाइनमेंट (योजनाओं) को पूरा करने का एकमात्र तरीका है।

स्मार्ट और सचेत ट्रेडिंग शैली की मांग हमें स्विंग ट्रेडिंग पर ध्यान केंद्रित करवाती है। आइए दिवसीय ट्रेडिंग के ऊपर इसके फायदों को समझने की कोशिश करते हैं और अपनी खुद की ट्रेडिंग रणनीतियों को विकसित करने के लिए कुछ बुनियादी सिफारिशें देते हैं।

 

दिवसीय और स्विंग ट्रेडिंग के बीच अंतर

अधिकांश नौसिखिए निवेशक दिवसीय ट्रेडिंग से शुरू करते हैं। यह ट्रेडर की स्थिर दैनिक आय की इच्छा के कारण है, जिस तरह से श्रमिकों को उनके नियोक्ताओं द्वारा भुगतान किया जाता है।

यहां दिवसीय ट्रेडिंग की प्रमुख विशेषताएं हैं:

  • ट्रेडर रात भर या सप्ताहांत तक पोजीशन को धरे नहीं रखते।
  • दिवसीय ट्रेडरों को ट्रेडिंग घंटे (अवधि) की अच्छी समझ होती है (वे जानते हैं कि ट्रेडिंग कब करना चाहिए और ट्रेडिंग से कब बचना चाहिए)। वे Stop Loss को अक्सर कम निर्धारित करते हैं और जब उनका ट्रेड खुला होता है तो वे अपने कार्यस्थल को नहीं छोड़ते हैं।
  • इसके अलावा, वे स्केलपर्स के लिए डिज़ाइन की गई ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग करते हैं और एक समाचार-प्रेरित अस्थिर बाजार में ट्रेड करते हैं।
  • वे शायद ही कभी 1-4 घंटे से अधिक समय-सीमा का विश्लेषण करते हैं।

दिवसीय ट्रेडर अक्सर गहराई से आधारभूत विश्लेषण करने से बचते हैं और भू-राजनीतिक स्थिति की निगरानी नहीं करते हैं क्योंकि इस तरह के पूर्वानुमान के तरीके अल्पावधि के लिए अप्रभावी होते हैं।

स्विंग ट्रेडर्स के लिए, Stop Loss और Take Profit का उपयोग करने के कारण अपनी पोसिशन्स को निरंतर निगरानी करने की आवश्यकता नहीं होती है।

अनुभवी स्विंग ट्रेडर चतुर शिकारी की तरह हैं जो लंबे समय तक इंतजार कर सकते हैं जब तक वे एक लाभदायक ट्रेड नहीं करते हैं। लेकिन वे कई दिनों के भीतर कुछ सफल ट्रेडों को करके उल्लेखनीय रूप से अपनी पूंजी बढ़ा सकते हैं।

 

स्विंग ट्रेडिंग के लिए बुनियादी रणनीतियाँ

यह सुनिश्चित करने के लिए कि स्विंग ट्रेडिंग क्या है, आपको लोकप्रिय ट्रेडिंग रणनीतियों की मूल विशेषताओं के बारे में सीखना चाहिए जो इस शैली से मेल खाती हैं। अब हम तकनीकी विश्लेषण के आधार पर एक प्रणाली का एक उदाहरण देंगे और स्विंग ट्रेडिंग में आधारभूत विश्लेषण का उपयोग करने के लिए बुनियादी सिफारिशों की रूपरेखा तैयार करेंगे।

 

प्रमुख स्तर

प्रत्येक परिसंपत्ति के अपने प्रमुख मूल्य स्तर होते हैं। सपोर्ट और रेज़िस्टेंस स्तरों, ट्रेंड लाइनों और अन्य की तुलना में प्रमुख (की) स्तर एक व्यापक अवधारणा है।

यहां हम अलग-अलग अवधि के मूविंग एवरेज, सबसे उल्लेखनीय ट्रेड वॉल्यूम स्तर, और ऐतिहासिक उतार और चढ़ाव से व्यवहार करते हैं। कई निवेशक कुछ स्तर के सापेक्ष परिसंपत्ति मूल्य की स्थिति के आधार पर अपने ट्रेडिंग निर्णय लेते हैं।

तात्पर्य, यदि मूल्य प्रतिरोध (रेज़िस्टेंस) स्तर से थोड़ा नीचे हैं, तो ट्रेडर को स्टॉक, मुद्रा और कमोडिटी परिसंपत्ति बेचने की इच्छा होगी। और यदि परिसंपत्ति की कीमत कुछ उल्लेखनीय न्यून (लो) के करीब है, तो ट्रेडर सक्रिय रूप से खरीदना शुरू कर देंगे।

ट्रेंड का अनुसरण करना स्विंग ट्रेडरों का एक और लोकप्रिय पसंद है। जैसे ही उन्हें ट्रेड खोलने के बाद बाजार को बारीकी से फॉलो नहीं करना पड़ता है, इन ट्रेडरों को एक अतिरिक्त सुरक्षा जाल (सेफ्टी नेट) की आवश्यकता होती है। एक ट्रेंड (रुझान) परंपरागत रूप से इस तरह के एक सुरक्षा उपाय के रूप में कार्य करता है।

इसलिए, प्रमुख स्तरों की अवधारणा के आधार पर ट्रेडिंग रणनीतियों के संकेत निम्नानुसार प्रस्तुत किए जा सकते हैं:

  • एक प्रमुख स्तर के नीचे से ऊपर तक ब्रेकआउट (शुरू) का मतलब है कि खरीदने का समय है।
  • एक प्रमुख स्तर के नीचे से ऊपर तक एक असफल ब्रेकआउट या एक गलत ब्रेकआउट एक बिक्री का संकेत है।
  • एक प्रमुख स्तर के ऊपर से नीचे तक का एक ब्रेकआउट बिक्री का संकेत है।
  • समर्थन (सपोर्ट) स्तर (किसी भी दिशा में) का फॉल्स (गलत) ब्रेकआउट या समर्थन स्तर की स्थिरता के कोई भी लक्षण ट्रेडरों को यह संकेत देता है कि परिसंपत्ति खरीदने का समय आ गया है।

एक अद्वितीय ट्रेडिंग पद्धति को लागू करने के लिए पूरी तरह से तैयार होने के लिए, आपको एक प्रमुख स्तर के प्रकार को चुनने, जोखिम प्रबंधन पर निर्णय लेने, प्रणाली का परीक्षण करने और बाजार को जीतने की आवश्यकता होगी।

 

स्विंग ट्रेडर्स के लिए आधारभूत विश्लेषण

आधारभूत विश्लेषण निकट भविष्य में मूल्य गतिविधि की दिशा से गोपनीयता का पर्दा उठा सकता है। इसका पूर्वानुमान करने में सक्षम होने के लिए, नवीनतम मेक्रोइकॉनॉमिक रिपोर्ट की समीक्षा करने की आवश्यकता है।

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के साथ शुरू करें, एक संकेतक जो देश में मुद्रास्फीति के स्तर को मापता है। इसकी क्रमिक वृद्धि अर्थव्यवस्था की स्थिर अवस्था और इसके विकास को इंगित करती है। आप वैश्विक आंकड़ों के साथ देश-विशिष्ट सूचकांक या पड़ोसी देशों में समान सूचकांक मूल्यों की तुलना कर सकते हैं।

फिर उपभोक्ता विश्वास और खुदरा बिक्री पर आंकड़ों की समीक्षा करें। एक देश की अवस्था और भविष्य प्रति विश्वास के स्तर को लोगों के आचरण से ज़्यादा कुछ और चीज़ द्वारा दर्शाया नहीं जा सकता है।

उदाहरण के लिए, अमेरिकी उपभोक्ता विश्वास सूचकांक वर्ष 2018 की दूसरी छमाही में 6 महीनों में से 5 में लगातार बढ़ रहा था। वर्ष के अंत में, S&P 500 स्टॉक सूचकांक को 2,400 अंकों के आसपास प्रस्तुत किया गया था। एक साल बाद, यह इंस्ट्रूमेंट 30% से अधिक बढ़ा

प्रमुख व्यापारिक संकेतक को भी जानना ज़रूरी है। वे सेवाओं और विनिर्माण क्रय प्रबंधकों (सर्विसेज एंड मैनुफेक्चरिंग पर्चेसिंग मैनेजर्स) के सूचकांक शामिल कर सकते हैं। ये दोनों संकेतक GDP पर काफी मजबूत प्रभाव डालते हैं, जो एक प्रमुख आर्थिक संकेतक है।

उपरोक्त रिपोर्टों में रुझान और चार्ट पैटर्न खोजने की कोशिश करें जो आपको बाजार वक्र (कर्व) से आगे बढ़ने में मदद करेंगे। इस तरह का विश्लेषण ट्रेडरों को एक महत्वपूर्ण समाचार जारी होने से पहले ट्रेड खोलने में और उनके सही पूर्वानुमान से लाभ लेने में सक्षम बनाता है । बेशक, ट्रेडर एक अप्रत्याशित घटना की भविष्यवाणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन इसी लिए तो उनके पास इसके लिए जोखिम प्रबंधन उपलब्ध है।

हम आपको स्मरण करा रहे हैं कि Olymp Trade प्लेटफार्म के Forex मोड में ट्रेडिंग की स्थिति नकारात्मक शेष सुरक्षा (नेगेटिव बैलेंस प्रोटेक्शन) सुनिश्चित करती है।

सम्बंधित लेख
Forex

Forex ट्रेडिंग के महत्वपूर्ण कारक

Forex बाजार विभिन्न कारकों से प्रभावित होते हैं। दीर्घकालिक अवधि में सफल ट्रेडिंग के लिए Olymp Trade Forex मोड में किन चीज़ों से परिसंपत्तियां प्रभावित होती हैं, समझना आवश्यक है।
Forex

Olymp Trade पर फॉरेक्स CFD ट्रेडिंग Spot Market से बेहतर है

ब्रोकर या परिसंपत्ति का चयन करते समय ट्रेडर के लिए Spot Market और CFD के बीच कई महत्वपूर्ण अंतर हैं। हम इस बात पर ज़ोर दे रहे हैं कि निवेशक को पारंपरिक समकक्ष की तुलना में CFD में ट...
Forex

लिवरेज: यह Olymp Trade पर कैसे काम करता है

Forex ट्रेडिंग बहुत सीधा है, लेकिन कुछ लोग लिवरेज पद्दति से भ्रमित हो सकते हैं। यहां, हम बता रहे हैं कि कैसे लिवरेज के साथ Olymp Trade पर ट्रेड किया जा सकता है।
Forex

Trailing Stop Loss टूल के साथ अपने मुनाफे को सुरक्षित करें

Trailing Stop Loss टूल ट्रेडर के शस्त्रागार में सबसे शक्तिशाली साधनों में से एक है। Trailing Stop Loss का उपयोग करके, निवेशक मुनाफे को लॉक इन कर सकते हैं और अचानक बाजार में बदलाव स...
Forex

Olymp Trade पर विदेशी मुद्रा में ट्रेडिंग के लिए परिसंपत्तियां

Olymp Trade पर ट्रेड के लिए उपलब्ध मुद्रा जोड़ी, सूचकांक और अन्य परिसंपत्तियों की संपूर्ण सूची। अपने पसंदीदा इंस्ट्रूमेंट्स में ट्रेड करके शीर्ष पर पहुंचें।