Skip to content

मूलभूत विश्लेषण क्या है?

मूलभूत विश्लेषण क्या है? - आधिकारिक Olymp Trade ब्लॉग

हमेशा किसी गतिविधि के मूल को समझने से, उसे करना आसान हो जाता है चाहे वह कितना भी जटिल क्यों न हो। मूलभूत विश्लेषण के मामले में भी यही लागू होता है। हालांकि यह विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से किया जा सकता है, इसका सार काफी सरल है, और हम इस लेख में इसकी जानकारी लेंगे।

विषय-वस्तु:

अतिरिक्त विवरण और स्पष्टीकरण प्राप्त करने के लिए डैश युक्त नीला शब्द और चित्रों के ऊपर स्थित हरे बिंदु के साथ अंतर्क्रिया करें।

 

इस प्रकार का विश्लेषण मूलभूत बातों पर केंद्रित है

एक पल के लिए कीमतों और चार्ट को भूल जाएं। इस बारे में सोचें कि वे क्या प्रतिनिधित्व करते हैं। विभिन्न मुद्राओं में अर्थव्यवस्थाएं, कंपनियां, लोग, वस्तुओं का उत्पादन, खरीदारी और बिकवाली, पैसे का भुगतान, ट्रांसफर और दुनिया भर में यात्रा हो रहे हैं। ये सभी और कई अन्य वास्तविक प्रक्रियाएं हैं। वे चार्ट और ग्राफ़ के बिना मौजूद हैं। इसलिए, वे प्राथमिक, या मूलभूत होते हैं। उन्हें समझना ही मौलिक विश्लेषण का काम है।

आपको यह समझने में मदद करता है कि उस कंपनी या अर्थव्यवस्था की अवस्था कैसी है। क्या वह मूलभूत रूप से ठीक है या इसमें समस्या है?

यदि कंपनी या अर्थव्यवस्था सफल है, तो इसका प्रतिनिधित्व करने वाला ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट (साधन) भी अच्छा प्रदर्शन करेगा और बड़ी संभाव्यता का भरोसा देगा।

यदि कंपनी या अर्थव्यवस्था की अवस्था ठीक नहीं है, तो इसका प्रतिनिधित्व करने वाला ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट भी खराब प्रदर्शन करेगा, बाजार के औसत से पीछे रहेगा, और क्षीण सम्भावना प्रस्तुत करेगा।

एक बार जब आप मूलभूत विश्लेषण में निहित प्रश्न का उत्तर देते हैं और ऊपर दिए गए दो निष्कर्षों में से एक पर पहुँच जाते हैं, तो आप उसके आधार पर ट्रेड के निर्णय ले सकते हैं।

अब सवाल यह उठता है कि यह कैसे समझा जाए कि कोई अर्थव्यवस्था या कंपनी की अवस्था अच्छी है या नहीं? आइए, इसे देखते हैं।

मुद्राओं में मूलभूत विश्लेषण क्या है?

प्रत्येक देश या आर्थिक संघ की अपनी मुद्रा होती है। संयुक्त राज्य अमेरिका का USD है, यूरोप में EUR है, यूनाइटेड किंगडम में GBP है, जापान का JPY है, इत्यादि।

इसलिए, आपको सम्बंधित अर्थव्यवस्था की वर्तमान और प्रत्याशित स्थिति को दर्शाने वाले समाचार और विश्लेषणात्मक रिपोर्टों का विश्लेषण करना होगा।

आमतौर पर, यदि कोई देश या आर्थिक क्षेत्र विकास की राह में अग्रसर होता है और आगे गंभीर जोखिमों के बिना सकारात्मक दृष्टिकोण दर्शाता है, तो उसकी मुद्रा में वृद्धि होती है।

यदि कोई देश या आर्थिक क्षेत्र दबाव में है, मुसीबत का सामना कर रहा है या अपेक्षित है, तो इसकी मुद्रा की कीमत गिरती है और नीचे जाती है।

जैसा कि आप मुद्रा जोड़े का ट्रेड करते हैं, प्रत्येक का मूल्य प्रदर्शन इस बात का परिणाम होता है कि एक मुद्रा दूसरे के मुकाबले कितनी मजबूत है।

उदाहरण के लिए, यदि किसी एक निश्चित दिन पर, JPY को प्रभावित करने वाली निराशाजनक खबर आती है और USD के लिए कोई बड़ी खबर नहीं है, तो संभवतः JPY की कीमत USD के मुकाबले गिर जाएगी। परिणामस्वरूप,  USD/JPY ऊपर जाएगा।

यदि किसी अन्य दिन, GBP के लिए सकारात्मक खबर और EUR के लिए कुछ बुरी ख़बरें आती हैं तो  EUR/GBP के नीचे जाने की संभावना बनती है।

मुद्रा जोड़े के लिए सबसे प्रभावशाली समाचारों की सूची यहां दी गई है।

  • ब्याज दर में परिवर्तन और केंद्रीय बैंकिंग अधिकारियों द्वारा जारी मौद्रिक रिपोर्ट
  • राज्यों के प्रमुख द्वारा दिए गए रणनीतिक बयान
  • श्रम अधिकारियों द्वारा साझा की गई रोजगार की गतिशीलता
  • मुद्रास्फीति और उपभोक्ता मूल्य की गतिशीलता
  • तिमाही और वार्षिक GDP विकास दर

वैसे, अन्य भी हैं। मूल्य की दिशा पर विशेषज्ञों के पूर्वानुमान सहित सबसे प्रभावशाली समाचार Olymp Trade की इनसाइट्स में प्रस्तुत हैं।

स्टॉक मार्केट में मूलभूत विश्लेषण क्या है?

स्टॉक मूलभूत विश्लेषण कंपनी के कारोबार को देखता है, जो स्टॉक इस कंपनी से सम्बंधित है। विशेष रूप से, यह मूल्यांकन किया जाता है कि क्या इस व्यवसाय से उचित प्रतिफल प्राप्त होगा और क्या यह भविष्य में आशाजनक संभावनाएं उपलब्ध कराता है।

आसान शब्दों में, स्टॉक मूलभूत विश्लेषण यह पता लगाता है कि किसी व्यवसाय का वर्तमान बाजार पूंजीकरण उसके वास्तविक कीमत के अनुरूप है या नहीं।

स्टॉक का आकलन करने के लिए कई मूलभूत पद्धतियों में, तुलनात्मक विश्लेषण और स्टॉक व्यवसाय मूल्यांकन पद्धति यह तय करने में सहायता हैं कि कोई निश्चित स्टॉक आपके पोर्टफोलियो में शामिल होने के योग्य है या नहीं। आइए, इन दो विधियों पर नज़र डालते हैं।

वित्तीय अनुपात का उपयोग करते हुए तुलनात्मक विश्लेषण

इस प्रकार का स्टॉक मूलभूत विश्लेषण आमतौर पर समान बाजार क्षेत्र जैसे तेल और गैस, फार्मा, या परिवहन उद्योग के शेयरों की तुलना करने के लिए लागू किया जाता है।

तुलनात्मक विश्लेषण विभिन्न इंडिकेटर और अनुपातों पर आधारित है। इनमें से, P/E, P/S, P/B, और D/P उपयोग करने में सबसे आसान हैं।

P/E, P/S, P/B अनुपात जितना कम होगा, स्टॉक को उतना ही बेहतर रूप में देखा जाएगा।

D/P जितना अधिक होगा, इस पद्धति द्वारा व्यवसाय को उतना ही बेहतर रूप में देखा जाएगा।

P/E कंपनी की कीमत, या इसका बाजार पूंजीकरण, को इसकी कमाई द्वारा विभाजित अनुपात है। इसलिए, यह वास्तव में व्यवसाय की पे-ऑफ अवधि है। उदाहरण के लिए, यदि हम $100 मिलियन में एक कंपनी खरीदते हैं जो $10 मिलियन का वार्षिक रिटर्न देती है, तो हमारे निवेश की भरपाई होने में 10 साल लगेंगे।

समय जितना कम लगेगा, अवधि उतनी ही कम होगी और इसे बेहतर माना जाता है।

P/B कंपनी के बाज़ार पूंजीकरण, या इसकी मौजूदा कीमत को इसके बुक वैल्यू या बैलेंस शीट के अनुसार अपने कैपिटल से विभाजित अनुपात है। उदाहरण के लिए, यदि हम $100 मिलियन की ऐसी एक कंपनी खरीदते हैं, जिसके पास $100 मिलियन के कुल मूल्य बराबर के कई कारखाने हैं, तो P/B $100मिलियन/$100मिलियन=1 होगा। इस मामले में, हमें जानकारी मिलेगी कि हम इस व्यवसाय को खरीदने के लिए जो भुगतान कर रहे हैं वह उसका वास्तविक मूल्य है।

P/B जितना कम होगा, व्यवसाय के खरीदार के लिए उतना ही अच्छा होगा।

P/S कंपनी की कीमत को उसकी बिक्री से भाग करने पर आने वाला अनुपात है। अक्सर, बढ़ती बिक्री का मतलब आमतौर पर किसी कंपनी के लिए मजबूत व्यावसायिक गतिशीलता होती है।

इसके साथ साथ, यह अनुपात जितना कम होगा, स्टॉक के खरीदार के लिए उतना ही बेहतर होगा।

D/P एक अनुपात है जो कंपनी की लाभांश (डिविडेंड) लाभप्रदता का आकलन करता है। यदि हम $100 मिलियन में एक व्यवसाय खरीदते हैं, और यह लाभांश (डिविडेंड) में सालाना $50 मिलियन का भुगतान करता है, तो इसकी लाभांश (डिविडेंड) लाभप्रदता 50% है। इसका मतलब यह होगा कि इस व्यवसाय के स्वामित्व के एक वर्ष में निवेश पर 50% का रिटर्न मिलेगा और निवेश की पूर्ण भरपाई होने में 2 साल लगेंगे।

एक व्यवसाय के रूप में कंपनी का मूल्यांकन

निश्चित स्टॉक से सम्बंधित कंपनी का मूल्यांकन विभिन्न वित्तीय संकेतकों पर निर्भर करता है जैसे कि कुल असेट मूल्य और देनदारियां, कैपिटल का स्वामित्व, आय, शुद्ध आय, लाभांश भुगतान नीति।

आम तौर पर, सभी स्टॉक को ग्रोथ स्टॉक और वैल्यू स्टॉक में विभाजित किया जा सकता है।

ग्रोथ स्टॉक कंपनियों में सक्रिय रूप से बढ़ती आय होती है, लेकिन वे लाभांश का भुगतान नहीं करते हैं।

वैल्यू स्टॉक कंपनियों में ज़रूरी नहीं कि आय में वृद्धि हो, लेकिन ये कंपनियां लगातार लाभांश का भुगतान करती हैं।

न्यूनतम कुल देनदारियों वाली कंपनी चुनना उपयुक्त होता है। इसके लिए एक उपयोगी फार्मूला प्रस्तुत है।

कंपनी के असेट = कुल देनदारी-स्वयं के कैपिटल

कंपनी के असेट से कुल देनदारियों को विभाजित करने पर, हमें वह अनुपात मिल जाएगा। सामान्य तौर पर, यह जितना कम होगा, उतना ही बेहतर होता है। इस बीच, प्रत्येक उद्योग के अपने थ्रेसहोल्ड (सीमित) मूल्य होते हैं। उदाहरण के लिए, बैंकों के लिए उच्च कुल देनदारियां होना सामान्य बात है। अन्य बाजार क्षेत्रों में, कंपनी के असेट का 70-75% की कुल देनदारियां एक खतरनाक संकेत होते हैं।

एक ग्रोथ स्टॉक कंपनी में बिक्री में बढ़त होनी चाहिए। ऐसे स्टॉक के लिए 15-20% से अधिक की वार्षिक बिक्री वृद्धि को यथोचित माना जाता है। तार्किक रूप से, यदि बिक्री नहीं बढ़ती या गिरती है, तो स्टॉक को खरीद के लिए अनुशंसित नहीं किया जा सकता है।

अब, ग्रोथ स्टॉक कंपनियों में बिक्री पहले की तरह सक्रिय रूप से नहीं बढ़ती है। उनकी वार्षिक बिक्री वृद्धि मूल्य अक्सर 5-10% के अंतर्गत है, और इसे खरीदने के लिए एक अच्छा स्टॉक माना जाता है।

ग्रोथ स्टॉक कंपनियों में शुद्ध कमाई में भी बढ़ोतरी की उम्मीद किए जाती है। यह एक प्रमुख संकेतक है क्योंकि एक कंपनी की बिक्री ज़्यादा हो सकती है, लेकिन उच्च वेतन भुगतान, महंगे संसाधनों का उपयोग करने, या खराब निवेश के कारण, इसकी कुल कमाई न्यूनतम, शून्य या नकारात्मक भी हो सकती है। इसलिए, यदि कंपनी की शुद्ध कमाई बढ़ने में नाकाम रहती है, तो यह एक बुरा संकेत है।

लाभांश (डिविडेंड) भुगतान पुलिस एक अन्य प्रमुख संकेतक है। यदि कोई कंपनी साल दर साल लगातार उच्च लाभांश का भुगतान करती है, तो यह एक अच्छा संकेत हो सकता है। साथ ही साथ, इसका मतलब यह भी हो सकता है कि कंपनी निवेश और रणनीतिक विस्तार की संभावनाओं को खोजने में विफल रही है। इसलिए, जब "लाभांश कंपनियां" अच्छे लाभांश का भुगतान करती हैं, वे अक्सर बढ़ने में विफल रहती हैं। अक्सर, ऐसे कंपनी स्टॉक की कीमत एक निश्चित सीमा के भीतर चलती रहती है।

स्टॉक मूलभूत विश्लेषण का सार

अब, हम सामान्य सारांश करते हैं कि स्टॉक मूलभूत विश्लेषण कैसे काम करता है।

आम तौर पर, यदि कंपनी के व्यवसाय का विस्तार हो रहा है, बिक्री बढ़ रही है, और कोई बड़ी अड़चन आने की उम्मीद नहीं है, तो इसका स्टॉक बढ़ जाता है।

यदि कोई कंपनी परेशानी का सामना कर रही है, बिक्री अच्छी तरह से नहीं बढ़ रही है, व्यावसायिक दृष्टिकोण अनिश्चित हैं, या यह कानूनी समस्याओं का सामना कर रही है, इसके स्टॉक की कीमत गिरती है और नीचे चली जाती है।

यहां स्टॉक्स के लिए सबसे प्रभावशाली खबरों की सूची दी गई है:

  • Earnings Season के दौरान जारी तिमाही कमाई रिपोर्ट
  • कंपनी के संचालन में बड़े बदलाव, रणनीतिक दूरदर्शिता और अन्य समाचार
  • CEO और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के परिवर्तन
  • विलय और अधिग्रहण
  • अन्य कंपनियों से प्रतिस्पर्धा

मुद्रा जोड़े की तरह ही, Olymp Trade की इनसाइट में स्टॉक समाचार भी उपलब्ध है, जो आपको मूलभूत विश्लेषण और फॉलो करने के लिए सिग्नल उपलब्ध कराती है।

उसी तरह, अन्य सभी बाजार क्षेत्रों के लिए मूलभूत विश्लेषण कारगर है।

यह समझने के लिए कि ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट में आगे क्या होने वाला है, मौलिक विश्लेषण इंगित करता है कि आप चीजों के बारे में विस्तार से सोचें और न केवल चार्ट का उपयोग करें।

एक्सप्लोर करते रहें

मूलभूत विश्लेषण ज्ञान पर आधारित है। इसे विस्तृत होने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसे स्पॉट-ऑन (सटीक) और व्यावहारिक होना चाहिए। Olymp Trade का सहायता केंद्र उपयोगी जानकारी से परिपूर्ण है। इसके अलावा, नौसिखिए लोगों के लिए और एडवांस्ड ट्रेडर के लिए भी मूलभूत विश्लेषण के साथ ट्रेडिंग शुरू करने के लिए समर्पित विशिष्ट सेक्शन उपलब्ध हैं।

सहायता केंद्र में और अधिक खोजें

जोखिम चेतावनी: लेख की सामग्री में निवेश की सलाह निहित नहीं है और आप अपनी ट्रेडिंग गतिविधि और/या ट्रेडिंग के परिणामों के लिए पूरी तरह से स्वयं जिम्मेदार हैं।