Skip to content

मुद्रा ट्रेडिंग के सुझाव

Currency Trading Tips - Official Olymp trade Blog

ऑनलाइन ट्रेडिंग मुद्रा ट्रेडिंग के लिए सबसे प्रचलित है। यह लेख इसकी मूलभूत बातें बताता है और मुद्राओं को सबसे बेहतर तरीके से ट्रेड करने के उपयोगी सुझाव प्रदान करता है।

विषय-वस्तु:

  • मुद्रा विनिमय की मुख्य विशेषताएं
  • मुद्रा ट्रेडिंग के लिए मूलभूत सुझाव
  • क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग पर मूलभूत सुझाव

प्रिय ट्रेडर, आप चार्ट पर चिह्नित शब्दों और निश्चित स्थान द्वारा ब्लॉग के टेक्स्ट के साथ अंतर्क्रिया कर सकते हैं।

डैश किया हुआ नीले रंग का शब्द पर टैप करने से आपको इसकी परिभाषा या स्पष्टीकरण दिखाई देगा।

चार्ट या इमेज पर हरे रंग के बिंदु पर दबाने से आपको दृश्यात्मक स्वरूप में अतिरिक्त विवरण मिलेगा।

मुद्रा विनिमय की मुख्य विशेषताएं

जब हम यात्रा करते हैं, पैसे बचाते हैं, या अतिरिक्त आय अर्जित करते हैं तो हम मुद्राएं खरीद सकते हैं। वाणिज्यिक संगठन अपनी कार्यात्मक और विदेशी मुद्रा दोनों में लेनदेन करते हैं। केंद्रीय बैंक अपने रिज़र्व बनाए रखने और मुद्रा इंटरवेंशन सञ्चालन करने के लिए विदेशी मुद्राओं का उपयोग करते हैं।

आजकल, विदेशी मुद्राओं को खरीदना और बेचना पहले की तुलना में बहुत आसान हो गया है। इसी तरह, स्पेक्युलेटिव (सट्टा) लेनदेन लोगों के लिए अधिक सुलभ और उपलब्ध हो गया है।

विदेशी मुद्रा लेनदेन का एक बड़ा हिस्सा OTC Forex बाजार में होता है जो 1970 के दशक में ब्रेटन वुड्स समझौता उन्मूलन के बाद उभरा।

चूंकि Forex एक विकेन्द्रीकृत बाजार है, लेकिन इसमें वास्तव में क्या हो रहा है, इसके बारे में आसानी से जानकारी प्राप्त करना कठिन है। इस संबंध में, द बैंक फॉर इंटरनेशनल सेटलमेंट्स, या BIS के प्रकाशन, विदेशी मुद्रा के संचालन पर आवधिक रूप में एकत्रित आंकड़ों के साथ, उपयोगी हैं।

उदाहरण के लिए, 2019 में BIS द्वारा जारी नवीनतम त्रैवार्षिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि बाजार में अधिकांश लेनदेन विदेशी मुद्रा स्वैप पर तेहो हैं, स्पॉट मार्केट में लेन-देन दूसरे स्थान पर हैं, और आउटराइट फॉरवर्ड्स तीसरे स्थान पर हैं। दैनिक लेनदेन की कुल मात्रा $6 ट्रिलियन से अधिक है। यह आंकड़ा जापान, जर्मनी या यूके के GDP और पूरे यूरोजोन के वार्षिक GDP का लगभग आधा है।

Forex आँकड़े - Olymp Trade - ब्लॉग - 05.04.2022
चित्र 1. Forex आँकड़े

उपरोक्त चार्ट स्पष्ट रूप से उस क्रम को दिखाता है जो मुद्राएं Forex पर सबसे लोकप्रिय हैं। शीर्ष तीन अमेरिकी डॉलर (USD), यूरोपीय यूरो (EUR) और जापानी येन (JPY) हैं।

OTC Forex बाजार पर ट्रेडिंग मुद्रा जोड़ी, जैसे कि USD/JPY, NZD/USD, आदि। जिस तरह से उन्हें बनाया और निरूपण किया जाता है वह अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन (ISO) मानक #4217 द्वारा परिभाषित किया गया है। उदाहरण के लिए, USD/NZD मुद्रा जोड़ी को दर्शाने का एक गलत तरीका होगा क्योंकि ISO कहता है कि यह NZD/USD ही होना चाहिए, न कि USD/NZD।

इस शोध के अनुसार, EUR/USD सबसे लोकप्रिय मुद्रा जोड़ी है और अधिकाँश सभी Forex लेनदेन इसी में होता है। कोट (भाव) विशेषत मूल्य निर्धारण के संबंध में सभी बाजार के सहभागियों, विक्रेताओं और खरीदारों के वर्तमान समझौते को दर्शाता है। उदाहरण के लिए, यदि EUR/USD का भाव 1.04000 है, तो इसका मतलब है कि कोई 1.00 EUR खरीदने के लिए 1.04000 USD का भुगतान करेगा।

एक मुद्रा जोड़ी के दो भाग होते हैं।


मुद्रा जोड़ी में सबसे पहले आने वाली मुद्रा को आधार मुद्रा या लेनदेन मुद्रा कहा जाता है।

एक जोड़ी में अवस्थित दूसरी मुद्रा कोट मुद्रा, या काउंटर मुद्रा है, और इसका उपयोग आधार मुद्रा के मूल्य को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।


उदाहरण के लिए, EUR/USD जोड़ी में, EUR आधार मुद्रा है और USD कोट मुद्रा है। USD/JPY में, USD पहले आता है, इसलिए यह आधार मुद्रा है, और JPY कोट मुद्रा है।

यदि USD आधार मुद्रा है, तो इसे प्रत्यक्ष कोटेशन कहा जाता है, और यदि USD जोड़ी में दूसरे स्थान पर है, तो इसे अप्रत्यक्ष कोटेशन कहा जाता है।

इसके अलावा, बिना USD के जोड़ी भी हैं, जैसे कि EUR/AUD या CAD/CHF। ऐसी जोड़ियों की दरों को क्रॉस-रेट्स कहा जाता है, लेकिन उनकी गणना फिर भी USD का उपयोग करके की जाती है। उदाहरण के लिए, EUR/AUD दर की गणना करने के लिए, दो मुद्रा जोड़े EUR/USD और AUD/USD की दरों का उपयोग किया जाता है। विकसित अर्थव्यवस्थाओं के लगभग सभी मुद्रा जोड़ी में USD होता है और वे मेजर से सम्बद्ध होते हैं, या ट्रेडिंग के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली मुद्राएं होती हैं। ये हैं EUR/USD, GBP/USD, USD/JPY, USD/CAD, AUD/USD, NZD/USD, और USD/CHF।

EUR/USD ट्रेडिंग की कल्पना करें। मान लीजिए, हमारे खाते में अमेरिकी डॉलर हैं, और हम यूरोपीय मुद्रा, Euro खरीदना चाहते हैं। यूरोप में प्रमुख दर प्रति वर्ष 0% है, जबकि अमेरिका में यह 1% है। इस प्रकार, उस डॉलर द्वारा Euro खरीदते समय, हम 1% पर पैसे उधार लेते हैं और इसे 0% पर रखते हैं। इस परिदृश्य में, यदि हम अपनी पोजीशन को बंद नहीं करते हैं और एक वर्ष के भीतर euro नहीं बेचते हैं, तो हमें 1% का नुकसान होगा। यदि हमारे पास Euro हैं और इनसे अमेरिकी डॉलर खरीदते हैं, और EUR/USD जोड़ी पर शॉर्ट पोजीशन लेते हैं तो, इसके विपरीत, हम 0% पर पैसे उधार लेते हैं और इसे 1% पर रखते हैं। बाद वाले परिदृश्य में, हमें अतिरिक्त 1% की आय प्राप्त होगी। FOREX बाजार में, इसे स्वैप कहा जाता है। दैनिक पुनर्गणना किए जाने पर, स्वैप या तो हमारे लाभ को बढ़ा सकते हैं या इसे कम कर सकते हैं।

चूंकि विनिमय बाजार बहुत बड़ा है, इसलिए ट्रेडर को दो प्रमुख पहलुओं के बारे में ज्ञान होना चाहिए।

मल्टीप्लायर्स मार्केट के बड़े ट्रेडिंग परिमाण तक पहुंचने में सहायक होते हैं

FOREX बाजार में संचालन लॉट्स में किया जाता है। चूंकि लॉट में ट्रेडिंग का अर्थ है मुद्रा की बड़ी मात्रा, निजी ट्रेडर को लीवरेज का उपयोग ज़रूरी है। लीवरेज, या मल्टीप्लायर, ट्रेडर के जोखिम और लाभ के अवसर दोनों को बढ़ाते हैं।

मूलभूत और तकनीकी विश्लेषण दोनों आवश्यक हैं

केंद्रीय, वाणिज्यिक और निवेश बैंक, पेंशन फंड, बीमा कंपनियां और अन्य संस्थान प्रमुख Forex प्रतिभागी हैं। उनके उद्देश्य ज्यादातर अटकलों से परे हैं। जबकि वे मूलभूत कारकों के आधार पर मुद्रा खरीदना या बेचना है, यह तय करते हैं, ये निर्णय अक्सर वैश्विक बाजार के रुझान को निर्धारित करते हैं। इसलिए, तकनीकी विश्लेषण के अलावा, ट्रेडर को मुद्रा के उतार-चढ़ाव के पीछे मूलभूत कारकों की समझ होनी चाहिए।

मूलभूत और तकनीकी विश्लेषण को समझना

मुद्रा ट्रेडिंग के लिए मूलभूत सुझाव

देशों की प्रमुख दरें उनकी मुद्रा जोड़ी के रुझान को प्रभावित करती हैं

बड़ी समय-अवधी में, उच्च प्रमुख दर वाले देश की मुद्रा आमतौर पर बढ़ती है।

2000 के दशक में EUR/USD का व्यवहार एक अच्छा उदाहरण है। संयुक्त राज्य के FRS प्रमुख, एलन ग्रीनस्पैन, लंबे समय से संयुक्त राज्य की प्रमुख दर को शून्य के करीब रखने की कोशिश कर रहे है। यह मुख्य रूप से इसलिए है क्योंकि अधिकांश अमेरिकी फेड नीति निर्माताओं को विश्वास है कि बाजार लाईसेज़-फेयर सिद्धांत के अनुसार अपने आप ही सब कुछ बराबर कर देगा। परिणामस्वरूप, EUR/USD तब तक बढ़ रहा था जब तक ऐसी नीति बरकरार थी।

EUR/USD चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 05.04.2022
चित्र 2. मासिक समय सीमा पर EUR/USD

परिणामस्वरूप, ऐसी ढीली मौद्रिक नीति के कार्यान्वयन के विनाशकारी परिणाम हुए। क्रेडिट फंड (ऋण) के "सस्ता होने से" बिना वित्तीय स्थिरता वाले उपभोक्ताओं के लिए अतिरिक्त ऋण दायित्व को लेना संभव बना दिया। स्थिति इतनी जटिल बन गई थी कि वॉल स्ट्रीट ने सीक्योरीटाइज़ेशन नामक एक उपकरण का सक्रिय रूप से उपयोग करना शुरू कर दिया था, जिसमें बैंक ऋण को बॉन्ड में परिवर्तित करके उन्हें निवेशकों के समक्ष प्रस्तुत करता था।

यह आकलन करने के लिए कि बॉन्ड ऋण कितने विश्वसनीय हैं, उन्हें एक निश्चित रेटिंग दी जाती है। अमेरिका में, 3 प्रमुख रेटिंग एजेंसियां, फिच, मूडीज और स्टैंडर्ड एंड पूअर्स हैं।

शुरुआत में, मॉर्गेज ऋणों की विश्वसनीयता की मात्रा के आधार पर रेटिंग दी गई थी जिसके तहत बांड जारी किए गए थे। बाद में, हालांकि, कम विश्वसनीयता वाले ऋणों के लिए सबप्राइम (निम्नवर्गीय) बांड जारी किए गए। इस तरह के रिलीज के अंतर्गत, रेटिंग मिश्रित थी, मतलब "अच्छे" ऋण "बुरे" के साथ मिश्रित हो जाते थे। इसने जारीकर्ता को उच्च रेटिंग देने और निवेशकों को बेचने में सहूलियत मिली। मूल रूप से, कम ब्याज दरों की लंबी अवधि के कारण बाजार में एक बड़ा बबल बन गया था।

बाद में, जैसे ही अमेरिका में सबप्राइम मॉर्गेज संकट शुरू हुआ, दरें बढ़ा दी गईं। परिणामस्वरूप, EUR/USD ट्रेंड बदल गया।

COVID-19 महामारी की शुरुआत में, अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने भी ब्याज दर को 1.75% से घटाकर 0.25% करने का उपाय किया। उसी समय, इसने QE कार्यक्रम लॉन्च किया। नतीजतन, US डॉलर अन्य मुद्राओं के मुकाबले गिरना शुरू कर दिया। उदाहरण के लिए, GBP/USD मुद्रा जोड़ी 1.20000 से बढ़कर 1.42000 हो गई।

GBP/USD चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 05.04.2022
चित्र 3. मासिक समय सीमा पर GBP/USD

बैंक ऑफ इंग्लैंड ने भी महामारी की शुरुआत के बाद से अपनी प्रमुख दर 0.75% से घटाकर 0.1% कर दी है। हालांकि, बाद में, इससे देश में मुद्रास्फीति में काफी तेजी आई। नतीजतन, बैंक ऑफ इंग्लैंड विकसित अर्थव्यवस्थाओं के पहले केंद्रीय बैंकों में से एक था जिसने मौद्रिक सख्ती शुरू कर दी थी। 12 दिसंबर, 2021 को इसने दर को बढ़ाकर 0.25% कर दी और बाद की बैठकों में इसे धीरे-धीरे बढ़ाते रहे। उस समय तक, अमेरिकी फेड के प्रतिनिधियों ने QE को कम करने और नीति को भी कड़ा करने की आवश्यकता की घोषणा करना शुरू कर दिया था। वास्तव में, फेड ने उस दिशा में अधिक आक्रामक तरीके से काम किया, और इससे अमरीकी डालर के मुकाबले GBP का अवमूल्यन हुआ। अंततः, GBP/USD 1.40000 से 1.25000 तक गिर गया, जबकि EUR/GBP में गिरावट जारी रही।

EUR/GBP चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 05.04.2022
चित्र 4. मासिक समय सीमा पर EUR/GBP

किसी देश का निर्यात और आयात उसकी विनिमय दर को प्रभावित करता है

चाहे कोई देश निर्यात-केंद्रित या आयात-केंद्रित हो, उसकी मुद्रा विनिमय दर को प्रभावित करता है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई देश मुख्य रूप से निर्यात के माध्यम से आय अर्जित करता है, तो उसे अपनी मुद्रा की मजबूती से अधिक लाभ नहीं होगा। इसके विपरीत, इसका केंद्रीय बैंक अपनी मुद्रा को कमजोर करने के लिए या तो दरों को कम करेगा या मुद्रा इंटरवेंशन करेगा और विनिमय दर पर डाउनवर्ड दबाव लागू करेगा।

"संसाधन-समृद्ध-अर्थव्यवस्था (रिसोर्स इकॉनमी)" ऐसे देशों का एक उदाहरण है। ये आयात से अधिक निर्यात करते हैं और इस प्रकार, शुद्ध निर्यातक होते हैं। विकसित देशों में ऑस्ट्रेलिया एक ऐसी अर्थव्यवस्था है। 2018 से सकारात्मक व्यापार संतुलन के साथ, यह एक शुद्ध निर्यातक देश है। इसके निर्यात का लगभग 40% ओर्स, स्लैग और राख सहित तेल जैसे खनिज ईंधन 25% से अधिक हैं। ऑस्ट्रेलिया के लिए अपनी प्रमुख दर को यथासंभव कम रखना फायदेमंद है क्योंकि यह उसके निर्यात का समर्थन करता है। 2015 के बाद से, ऑस्ट्रेलियाई केंद्रीय बैंक लगातार प्रमुख दर को कम कर रहा है। केवल बढ़ती मुद्रास्फीति की स्थिति में RBA ने मौद्रिक सख्ती का रुख किया, और यह दर अब 0.35% है। कम दरों के कारण, AUD/USD ज्यादातर काफी लंबे समय से डाउनट्रेंड में रहा है। 2011 से 2022 तक, जोड़ी 1.10600 से 0.78000, यानी लगभग 30% तक गिरी है।

निवेशकों ने कठिन समय में सुरक्षित निवेश की ओर रुख किया

सुरक्षित-आश्रय (सेफ-हेवन) मुद्राएं ऐसी मुद्राएं हैं जिन्हें उनकी अपेक्षित मूलभूत स्थिरता के कारण संकट के दौरान निवेशकों के लिए सबसे आकर्षक माना जाता है।

CHF और JPY प्राथमिक मुद्राओं में से हैं क्योंकि ये विकसित अर्थव्यवस्थाओं की मुद्राएँ हैं। यदि निवेशक बढ़ती अनिश्चितता और वैश्विक आर्थिक समस्याओं को आते देखते हैं या आने की अपेक्षा करते हैं, तो वे जोखिमपूर्ण असेट जैसे स्टॉक या उच्च जोखिम-युक्त बॉन्ड में निवेश किए गए धन को सुरक्षित असेट में स्थानांतरित कर देंगे।

विदेशी मुद्रा बाजार की इस विशेषता को समझने के लिए, वित्त की दुनिया को एक महासागर के रूप में कल्पना करने की आवश्यकता है। जैसे समुद्र में, समय-समय पर ज्वार-भाटा (बैकफ़्लो) पीछे हटते हैं, वैसे ही वित्त की दुनिया में भी होता है। यदि अर्थव्यवस्था में समस्याएँ आती हैं, तो जो धन जोखिमपूर्ण असेट माना जाता है, जैसे स्टॉक या उच्च जोखिम-युक्त बॉन्ड, वे अन्य असेट में प्रवाहित होने लगते हैं।

इस तर्क को प्रदर्शित करते हुए, अमेरिकी स्टॉक सूचकांकों ने 2008-2009 के संकटकालीन वर्षों में कमजोर प्रदर्शन किया। दूसरी ओर, जापानी येन के लिए वे उच्च-प्रदर्शन वाले वर्ष रहे, जिससे USD/JPY जोड़ी में गिरावट आई।

USD/JPY चार्ट - Olymp Trade - ब्लॉग - 05.04.2022
चित्र 5. मासिक समय सीमा पर USD/JPY

क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग पर मूलभूत सुझाव

क्रिप्टोकरेंसी हाल में Forex बाजार का एक स्वाभाविक आयाम बन गया है। क्रिप्टोकरेंसी क्या है? क्रिप्टोकरेंसी और f[फिएट मुद्राओं]=[फिएट पैसा एक सरकार द्वारा जारी मुद्रा है जो सोने जैसी कमोडिटी द्वारा समर्थित नहीं है।] के बीच मूलभूत अंतर यह है कि क्रिप्टोकरेंसी किसी विशेष केंद्रीय बैंक द्वारा जारी नहीं किए जाते हैं। इसलिए, वे दुनिया के किसी भी देश से बंधे नहीं हैं। इससे मूलभूत विश्लेषण करना मुश्किल हो जाता है।

सबसे लोकप्रिय दो क्रिप्टोकरेंसी में Bitcoin, जिनका बाजार पूंजीकरण लगभग $600 बिलियन है, और Ethereum जिसका बाजार पूंजीकरण $250 बिलियन से अधिक है। इन "परम्परागत" क्रिप्टोकरेंसी के अलावा, स्टेबल कॉइन्स लगभग 80 बिलियन डॉलर के बाजार पूंजीकरण के साथ प्रमुख स्टेबल कॉइन Tether (USDT) हैं, Binance कॉइन (BNB), और USD कॉइन (USDC) जिसका बाजार पूंजीकरण $50 बिलियन है।

इस तथ्य के बावजूद कि क्रिप्टोकरेंसी बाजार काफी विकसित है, ट्रेडिंग के जोखिम बहुत अधिक हैं। सबसे ज्वलंत उदाहरणों में से एक LUNA क्रिप्टोकरेंसी के साथ हुई शुरूआती 2022 की स्थिति थी, जिसे UST स्टेबल कॉइन से जोड़ा गया था। आर्बिट्रेज संचालन की जटिल व्यवस्था के कारण, LUNA और स्टेबल कॉइन UST दोनों में गंभीर गिरावट आई, जिसके कारण लगभग 30% की कुल गिरावट के साथ सभी क्रिप्टोकरेंसी में बिक्री की एक लहर शुरू हुई।

इसके अलावा, क्रिप्टोकरेंसी बाजार अक्सर कुछ मामलों में धोखेबाज़ी के अधीन होता है जब बड़े सहभागियों का समूह, जिसे अक्सर "व्हेल" कहा जाता है, एक क्रिप्टोकरेंसी के मूल्य ट्रेंड को नाटकीय रूप से प्रभावित करता है।

साथ ही साथ, हाल ही में, Bitcoin के सम्बन्ध में एक सुरक्षात्मक असेट के रूप में सोने का विकल्प बनने पर बहस हुई है। सच्चाई यह है कि क्रिप्टोकरेंसी शब्दों के परम्परागत अर्थ में मुद्रास्फीति के अधीन नहीं है और इसलिए सैद्धांतिक रूप से जमा बचत करने के साधन के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है।

इसका मतलब है कि ट्रेडर को क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने में सावधानी बरतनी होगी। साथ ही साथ, इन पर ट्रेडिंग करना काफी लाभदायक भी हो सकता है। Olymp Trade पर, आप Bitcoin, Ethereum और Litecoin जैसी प्राथमिक क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड कर सकते हैं। इसके अलावा, Fixed Time Trades मोड के इंडेक्स सेक्शन में, आपको Basic Altcoin इंडेक्स प्राप्त होगा।

Olymp Trade पर मुद्रा में ट्रेड करें

जोखिम चेतावनी: लेख की सामग्री में निवेश की सलाह निहित नहीं है और आप अपनी ट्रेडिंग गतिविधि और/या ट्रेडिंग के परिणामों के लिए पूरी तरह से स्वयं जिम्मेदार हैं।

Forex