Skip to content

संक्षेप में भारत की आर्थिक अवस्था 06.06.2022

Indian Market Review by Olymp Trade Experts on Olymp Trade Official Blog

इस साप्ताहिक समीक्षा में, हम Sensex पर GDP आंकड़ों के प्रभाव, आने वाले सप्ताह में संभावित RBI की रेपो दर और भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग पर सेमीकंडक्टर की कमी के प्रभाव का विश्लेषण कर रहे हैं।

विषय-वस्तु:

  • वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए भारतीय GDP के आंकड़े
  • संभावित RBI रेपो दर वृद्धि हो सकती है
  • Sensex की संभावनाएं
  • ऑटोमोबाइल उद्योग पर दबाव

प्रिय ट्रेडर, आप चार्ट पर चिह्नित शब्दों और निश्चित स्थान द्वारा ब्लॉग के टेक्स्ट के साथ अंतर्क्रिया कर सकते हैं।

डैश किया हुआ नीले रंग का शब्द पर टैप करने से आपको इसकी परिभाषा या स्पष्टीकरण दिखाई देगा।

चार्ट या इमेज पर हरे रंग के बिंदु पर दबाने से आपको दृश्यात्मक स्वरूप में अतिरिक्त विवरण मिलेगा।

वित्तीय वर्ष 2021-22 के भारतीय GDP

2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था 8.7% बढ़ी।

भारतीय अर्थव्यवस्था में वित्तीय वर्ष 2021-22 में 8.7% की वृद्धि हुई, इसके साथ-साथ सकल घरेलू उत्पाद GDP में पिछले साल की तुलना में पहली तिमाही में 4.1% का विस्तार हुआ। FY 2021-22 के लिए GDP की वृद्धि अर्थव्यवस्था को महामारी-पूर्व के स्तर से ऊपर ले जाती है और FY 2020-21 में 6.6% के सिकुड़न के बाद यह एक सुधार है।

वैसे, समग्र FY 2021-22 के दौरान आर्थिक विकास में प्रत्येक तिमाही के साथ निरंतर गिरावट आई है। FY 2021-22 की पहली तिमाही में, आर्थिक विकास दर आश्चर्यजनक 20.1% थी, जो कि मुख्य रूप से लो बेस प्रभाव के कारण थी। दूसरी तिमाही में यह 8.4% थी, जबकि तीसरी तिमाही में यह 5.4% थी। अब चौथी तिमाही में यह घटकर 4.1% पर आ गई है। और पूरे FY 2021-22 के लिए भारत की GDP विकास 8.7% का है। सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (MoSPI), जो GDP के आंकड़े जारी करता है, द्वारा FY 2021-22 के लिए GDP अनुमानित 8.9% की वृद्धि से कम है। 8.7% की वृद्धि भी भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के FY 2021-22 के लिए GDP वृद्धि के 9.5% के अनुमान से कम है। यहां तक ​​कि मार्च तिमाही की 4.1% की वृद्धि भी इस अवधि के लिए RBI के अनुमान से काफी कम है, जो कि 6.1% का था और यह अपेक्षा से नीचे है।

FY 2019-2022 से प्रत्येक तिमाही में भारत की GDP - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा – 06.06.2022
चित्र 1. FY 2019-2022 से प्रत्येक तिमाही में भारत की GDP

संभावित RBI रेपो दर में वृद्धि होने जा रही है

RBI की रेपो दर 4.4% है | हाल ही में RBI ने f[रेपो दर]=[भारत में ब्याज दर को रेपो दर कहा जाता है।] 4% से 4.4% तक बढ़ा दिया है लेकिन बढ़ती मुद्रास्फीति का मुकाबला करने के लिए इसे और बढ़ाया जा सकता है। 4 मई को हुई एक अप्रत्याशित दर वृद्धि के बाद, मौद्रिक नीति समिति (MPC) के कई सदस्यों ने स्टिकी प्राइस (स्थिर कीमत) के दबाव को नियंत्रित करने के लिए इस साल आगामी बैठकों में और अधिक बढ़ाने की मांग की, जो पिछले महीने आठ साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है।

Pantheon मैक्रोइकॉनॉमिक्स के उभरते एशिया अर्थशास्त्री मिगेल चांको ने कहा, "ज्यादातर बढ़ोतरी इस साल होगी और हम उम्मीद करते हैं कि यह चक्र अगले साल अप्रैल में समाप्त हो जाएगा...Q4 (2022) के बाद से और अधिक बढ़ोतरी की आवश्यकता कम होती रहेगी।"

Axis बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री सौगत भट्टाचार्य के अनुसार, मुद्रास्फीति के ऊंचे स्तर पर बने रहने के साथ, RBI इस वित्तीय वर्ष के अंत तक बेंचमार्क ऋण दर को धीरे-धीरे लगभग 5.75% तक बढ़ा सकता है। RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास पहले ही कह चुके हैं कि जून की समीक्षा में एक और बढ़ोतरी की संभावना पर "सोचने-की-ज़रूरत-नहीं" है। MPC की अगली बैठक 6-8 जून को होनी है। उम्मीद है कि एक और दर वृद्धि होने वाली है। तो चलिए, भारतीय शेयर बाजार पर नज़र डालते हैं और विश्लेषण करते हैं कि Sensex पर क्या असर पड़ेगा।

पिछले 5 वर्षों का RBI रेपो रेट के आंकड़े - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 06.06.2022
चित्र 2. पिछले 5 वर्षों का RBI रेपो रेट के आंकड़े

Sensex की संभावनाएं

Sensex में गिरावट जारी रह सकती है।

Sensex की दैनिक समय सीमा दर्शाती है कि एक डाउनट्रेंड पहले ही शुरू हो चुका है और निकटतम सपोर्ट स्तर 55,000 की ओर बढ़ चला है। यदि इंडेक्स उस सपोर्ट को तोड़ता है, तो मजबूत सुधार (करेक्शन) की स्थिति में यह 53,500-52,500 या इससे नीचे के सहायक सपोर्ट सीमा तक गिर सकता है।

यह उम्मीद की जाती है कि संभावित आगामी RBI दर वृद्धि की वजह से आने वाले हफ्तों में Sensex कमजोर बना रहेगा। निचे की दिशा में रेंज-बाउंड की भी सम्भावना है, लेकिन अपसाइड गति की अत्यधिक संभावना नहीं है। हम उम्मीद करते हैं कि Sensex कुछ समय के लिए दबाव में रहेगा और यह दिए गए निम्न स्तरों और इससे भी नीच तक गिर सकता है।

दैनिक चार्ट पर Sensex - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 06.06.2022
चित्र 3. दैनिक समय सीमा पर Sensex

ऑटोमोबाइल उद्योग पर दबाव

Shortage of Semiconductors Worldwide.

संकटपूर्ण सेमीकंडक्टर की वैश्विक कमी कम से कम अगले वर्ष तक और शायद लंबे समय तक रहने की संभावना है, U.S.

वाणिज्य सचिव जीना रायमोंडो ने मंगलवार को चेतावनी दी। पिछले साल Covid -19 महामारी के कारण प्रमुख एशियाई आपूर्तिकर्ता बाधित होने से आपूर्ति प्रभावित हुई है, जब अमेरिकी उपभोक्ता, सरकारी राहत से मिली नकदी के साथ, कारों और इलेक्ट्रॉनिक्स खरीदने के लिए पैसे खर्चने लगे, जो चिप्स पर निर्भर हैं। अमेरिकी सीनेट और प्रतिनिधि सभा ने 52 अरब डॉलर के विधेयक को मंजूरी दी है - CHIPS अधिनियम और अमेरिका COMPETES अधिनियम जो घरेलू चिप अनुसंधान और उत्पादन में निवेश करेंगे लेकिन अभी तक कानून के अंतिम स्वरुप के ऊपर सहमत होने में विफल रहे हैं।

रायमोंडो ने अपनी हालिया एशिया यात्रा के बाद संवाददाताओं से कहा, "दुर्भाग्य से मुझे नहीं लगता कि अगले साल तक चिप की कमी किसी भी सार्थक तरीके से समाप्त हो जाएगी।"

चिप की यह वैश्विक कमी भारतीय कार निर्माताओं के लिए सेमीकंडक्टर उपकरणों और पुर्जे के बिना उत्पादन करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। आइए Maruti Suzuki के चार्ट पर एक नज़र डालते हैं और संभावित ट्रेड करने के लिए इसका विश्लेषण करते हैं। हम देख पा रहे हैं कि चार्ट फिलहाल एक चक्रीय तरीके से व्यवहार कर रहा है, तो अभी इंतजार करना और 7,000 के स्तर से अप ट्रेड करना या आक्रामक निवेशकों के मामले में Maruti Suzuki इंडिया के कॉल ऑप्शन को 8,000 और ऊपर के स्तर से बेचना बेहतर है।

Maruti Suzuki India - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 06.06.2022
चित्र 4. Maruti Suzuki India

जोखिम चेतावनी: लेख की सामग्री में निवेश की सलाह निहित नहीं है और आप अपनी ट्रेडिंग गतिविधि और/या ट्रेडिंग के परिणामों के लिए पूरी तरह से स्वयं जिम्मेदार हैं।

Stocks