Skip to content

RBI की रेपो दर वृद्धि प्रति भारतीय अर्थव्यवस्था और शेयर बाजार की प्रतिक्रिया 09.05.2022

RBI ने रेपो दर को 4% से बढ़ाकर 4.4% कर दिया है। Sensex और बैंक Nifty कैसे प्रतिक्रिया देंगे?

विषय-वस्तु:

  • रेपो दर का प्रभाव भारतीय शेयर बाजार में गिरावट का दबाव बना सकता है
  • Sensex में गिरावट जारी रह सकता है
  • बैंक Nifty पर प्रभाव

प्रिय ट्रेडर, आप चार्ट पर चिह्नित शब्दों और निश्चित स्थान द्वारा ब्लॉग के टेक्स्ट के साथ अंतर्क्रिया कर सकते हैं।

डैश किया हुआ नीले रंग का शब्द पर टैप करने से आपको इसकी परिभाषा या स्पष्टीकरण दिखाई देगा।

चार्ट या इमेज पर हरे रंग के बिंदु पर दबाने से आपको दृश्यात्मक स्वरूप में अतिरिक्त विवरण मिलेगा।

RBI की रेपो दर वृद्धि के पीछे के कारक

रेपो दर का प्रभाव भारतीय शेयर बाजार में गिरावट का दबाव बना सकता है

रेपो दर में 40 bps की वृद्धि से 4% से 4.4% तक भारत की अर्थव्यवस्था में बड़े पैमाने पर प्रभाव पड़ सकता है। आमतौर पर जब रेपो दर बढ़ता है तो ऋण की ब्याज दरें भी बढ़ जाती हैं। नतीजतन, निगमों को व्यापार विस्तार के लिए ली गई उधार धनराशि पर अधिक भुगतान करना पड़ता है। इसलिए, इससे उनकी लाभप्रदता और प्रति शेयर आय में गिरावट होता है। नतीजतन, स्टॉक नीचे जाते हैं। इसी तरह, घर, कार, शिक्षा और अन्य उपभोक्ता उद्देश्यों के लिए खुदरा ऋण भी अधिक महंगे हो जाते हैं और इससे उपभोक्ता खर्च में कमी और GDP में गिरावट आती है।

इसलिए, यह कहना उपयुक्त होगा कि रेपो दर में वृद्धि का भारतीय अर्थव्यवस्था और शेयर बाजार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। फिर भी, RBI ने यह कदम उठाया। इसका प्राथमिक कारण यह है कि वह मुद्रास्फीति की वृद्धि को रोकना चाहता है।

2018 के बाद से, यह पहली बार है जब RBI ने बढ़ती मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए रेपो दर में बढ़ोतरी की है। वास्तव में, रेपो बढ़ाने से अर्थव्यवस्था से पैसा निकल जाता है। स्वाभाविक रूप से, इससे उपभोक्ताओं और निगमों के हाथों कम धन उपलब्ध होता है। इसके परिणामस्वरूप, सामान्य रूप से मुद्रास्फीति में कमी आती है।

अब, देखते हैं कि Sensex और बैंक Nifty ने कैसे प्रतिक्रिया दी है।

RBI रेपो दर वार्षिक चार्ट - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 10.05.2022
चित्र 1. भारतीय रिजर्व बैंक की रेपो दर

Sensex में गिरावट कायम रह सकता है

Sensex और अधिक गिर सकता है। दैनिक समय सीमा पर, Sensex ने डाउनट्रेंड का गठन शुरू कर दिया है। यदि यह निकटतम सपोर्ट स्तर को 55,000 पर तोड़ता है, यह मजबूत सुधार के मामले में सहायक सपोर्ट सीमा 52,500-53,200 और नीचे तक गिर सकता है।

हमारा मानना ​​है कि आगामी हफ्तों में Sensex में गिरावट जारी रहेगी। जबकि रेंज-बाउंड ट्रेडिंग भी डाउनवर्ड दिशा में होने की एक संभावना है, और अपवर्ड गतिविधि होने की संभावना नहीं है।

दैनिक चार्ट पर Sensex - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 10.05.2022
चित्र 2. दैनिक समय सीमा पर Sensex

बैंक Nifty पर प्रभाव

भारतीय बैंकिंग उद्योग में गिरावट आ सकती है। भारतीय बैंकिंग उद्योग RBI की रेपो दर में वृद्धि का सबसे अधिक प्रभाव महसूस कर सकता है। मुख्यत:, वृद्धि देश के वाणिज्यिक बैंकों को उनके द्वारा दिए जाने वाले ऋणों पर ब्याज दरों में वृद्धि करने के लिए दबाव डाल सकती है। बैंक Nifty Sensex के डाउनट्रेंड के रास्ते चल सकता है। 34,000-34,200 की सीमा एक प्रमुख सपोर्ट स्तर के रूप में काम कर सकती है। अगर बैंक Nifty नीचे की ओर रास्ते में इसे तोड़ता है, तो आगामी हफ्तों में 32,250 के अगले डाउनवर्ड लक्ष्य को चुनौती दी जा सकती है।

बैंक Nifty का दैनिक चार्ट - Olymp Trade - विशेषज्ञ समीक्षा - 10.05.2022
चित्र 3. दैनिक समय सीमा पर बैंक Nifty

जोखिम चेतावनी: लेख की सामग्री में निवेश की सलाह निहित नहीं है और आप अपनी ट्रेडिंग गतिविधि और/या ट्रेडिंग के परिणामों के लिए पूरी तरह से स्वयं जिम्मेदार हैं।

Stocks